महाराष्ट्र में कमजोर मॉनसून की स्थिति आ रही

मौसम समाचार
Share with Social Media

मानसून के शुरुआती दिनों में, विशेषकर जून के महीने में, महाराष्ट्र राज्य में बड़े पैमाने पर कमी थी। हालाँकि, जुलाई महीने के अंत के दौरान, मराठवाड़ा, विदर्भ, साथ ही मध्य महाराष्ट्र सहित महाराष्ट्र के सभी भूमि-बद्ध उपविभागों में लगभग 13 से 14% अधिशेष हो गया। हालाँकि, पिछले कुछ दिनों में, इस क्षेत्र में मानसून कमजोर रहा है, जिसके परिणामस्वरूप उस अधिशेष की खपत हुई है। अब ये सभी क्षेत्र नकारात्मक पक्ष की ओर खिसक रहे हैं।

मराठवाड़ा में 1% की कमी हो गई है, विदर्भ में केवल 2% की कमी हो गई है और मध्य महाराष्ट्र में अब 7% की कमी हो गई है।यह कमी अगले 10 दिनों में बढ़ने की संभावना है क्योंकि बंगाल की खाड़ी के ऊपर कोई मानसून प्रणाली आने की उम्मीद नहीं है जिससे इन क्षेत्रों में बारिश की कोई सभावना नही है। अब मॉनसून की बारिश ट्रफ रेखा से नियंत्रित होने की उम्मीद है जो ज्यादातर देश के पूर्वी हिस्सों में बारिश देने तक ही सीमित रहेगी।