मॉनसून अवलोकन 24 से 30 जुलाई 2023 भारी बारिश की संभावना

मौसम समाचार
Share with Social Media

मॉनसून निम्न दबाव रेखा आज गुजरात के देसा से निकलती है और मध्य प्रदेश के रतलाम, बैतूल, और आंध्र प्रदेश के बेरहामपुरी, कांकेर, क्लिंगपट्टनम से पूर्व-दक्षिणपूर्व से लेकर पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैली हुई है। यह समुद्र तल से वायुमंडल में 1.5 किमी की ऊंचाई तक फैली हुई है

मजबूत मॉनसून लहर उत्तर_केरल से लेकर कर्नाटक तक प्रवेश कर रही है, दक्षिण-पश्चिम मॉनसून पश्चिमी घाट के जिलों नीलगिरि और कोयंबटूर, कावेरी जलग्रहण क्षेत्रों में तेज हो जाएगा, कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होगी, अगले 2 दिनों तक अत्यधिक बारिश संभव है

आंध्र प्रदेश तट के पास अगले 24 घंटों में ताजा कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है और श्रीकाकुलम से लेकर तिरुपति जिलों तक आंध्र प्रदेश के पूरे तटीय क्षेत्र में भारी बारिश होने की संभावना है और रायलसीमा के कुछ हिस्सों, खासकर कुरनूल, नंद्याल और कडपा जिलों को भी प्रभावित करने की संभावना है

अगले 24 घंटों में जूनागढ़, देवभूमि द्वारका, जामनगर, कच्छ, नवसारी, सूरत, वलसाड, दादरा और नगर हवेली, दमन में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। जारी

हरियाणा एनसीआर दिल्ली में मानसून कमजोर पड़ गया है परंतु पश्चिमी विक्षोभ ने कमजोर मानसून के वावजूद बारिश की संजीवनी प्रदान की है जिसकी वजह से हरियाणा के उत्तरी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियों को दर्ज किया जा रहा है। जबकि शेष हरियाणा एनसीआर दिल्ली में केवल एक दो स्थानों पर बिखराव वाली हल्की बारिश की गतिविधियों को दर्ज किया गया है । सम्पूर्ण इलाके में तापमान में बढ़ोतरी दर्ज हो रही है और उमस भरी पसीने वाली गर्मी अपने रंग दिखा रही हैं। मौसम विशेषज्ञ डॉ चंद्रमोहन ने बताया कि वर्तमान परिदृश्य में मानसून टर्फ रेखा अपनी सामान्य स्थिति से दक्षिण में जैसलमेर, दीसा, रतलाम, बैतूल, चंद्रपूर, कोंडागांव, गोपालपुर से होती हुई बंगाल की खाड़ी तक जा रही है जिसकी वजह से हरियाणा एनसीआर दिल्ली में मानसून गतिविधियों में कमी देखने को मिल रही है। साथ ही साथ एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पर्वतीय क्षेत्रों पर सक्रिय होने से पंजाब पर एक प्रेरित चक्रवातीय सरकुलेशन बना हुआ है जिसकी वजह से अरब सागर से प्रचुर मात्रा में नमी मिल रही है। जिसकी वजह से सम्पूर्ण इलाके पर बादलों ने डेरा जमा लिया है और हरियाणा के उत्तरी जिलों पंचकूला अंबाला यमुनानगर कुरुक्षेत्र करनाल कैथल जींद फतेहाबाद में हल्की से मध्यम और कुछ स्थानों पर भारी बारिश की गतिविधियों को दर्ज किया गया है। जबकि शेष हरियाणा एनसीआर दिल्ली में केवल बादल वाही देखने को मिल रही है और केवल सिमित स्थानों पर बिखराव वाली हल्की बारिश और बुंदाबांदी की गतिविधियों को दर्ज किया गया है आने वाले दो दिनों तक हरियाणा एनसीआर दिल्ली में इसी प्रकार की गतिविधियों को दर्ज किया जाएगा। 24 जुलाई को बंगाल की खाड़ी पर एक नया लो प्रेशर एरिया विकसित हो जाएगा जो धीरे धीरे उत्तर पश्चिम में हरियाणा एनसीआर दिल्ली के दक्षिणी हिस्सों पर पहुंचने की संभावनाएं बन रही है जिसकी वजह से एक बार फिर से मानसून टर्फ अपनी सामान्य स्थिति पर पहुंचने की संभावना है जिसकी वजह से हरियाणा एनसीआर दिल्ली में एक बार फिर से मानसून गतिविधियों में तेजी आने की संभावना है और सम्पूर्ण इलाके में 25-31 जुलाई के दौरान मानसून गतिविधियों को दर्ज किया जाएगा जिसकी वजह से भारतीय मौसम विभाग ने सम्पूर्ण इलाके पर येलो अलर्ट जारी कर दिया है। हालांकि आज शनिवार को दोपहर बाद जिला महेंद्रगढ़ में नारनौल, अटेली और महेंद्रगढ़ के आसपास में हल्की बिखराव वाली बारिश/बूंदाबांदी की गतिविधियों को दर्ज किया गया है जिसकी वजह से दिन के तापमान में आंशिक गिरावट दर्ज हुई है। जिसकी वजह से आज प्रभावित हिस्सों में मौसम सुहावना बना हुआ है और आमजन को उमस भरी गर्मी से आंशिक राहत मिली है। जबकि सतनाली कनीना और नांगल चौधरी में केवल आंशिक बादलवाही देखने को मिली और मौसम शुष्क बना रहा । आज हरियाणा एनसीआर दिल्ली में अधिकतर स्थानों पर रात्रि और दिन के तापमान में बढ़ोतरी दर्ज हुई है जबकि जिला महेंद्रगढ़ में नारनौल और महेंद्रगढ़ का रात्रि तापमान क्रमश 28.5 डिग्री सेल्सियस और 28.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। जो सामान्य तापमान से 3.0 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया है।