सम्पूर्ण भारत का जुलाई 25, 2023 का मौसम पूर्वानुमान

मौसम समाचार
Share with Social Media

मॉनसून ट्रफ नलिया, अहमदाबाद,रतलाम, इंदौर, सिवनी, रायपुर, गोपालपुर, और फिर दक्षिण-पूर्व की ओर उत्तरी अंडमान सागर से गुजर रही है। चक्रवाती परिसंचरण दक्षिण-पूर्व विदर्भ और इससे सटे दक्षिणी छत्तीसगढ़ पर बना हुआ है। एक अन्य चक्रवाती परिसंचरण पश्चिम मध्य और उससे सटे उत्तर-पश्चिमी बंगाल की खाड़ी के ऊपर है जो समुद्र तल से 7.6 किमी ऊपर तक फैला हुआ है। एक कतरनी क्षेत्र औसत समुद्र तल से 3.1 और 5.8 किलोमीटर के बीच 20° उत्तर अक्षांश पर चल रहा है और ऊंचाई के साथ दक्षिण की ओर झुका हुआ है। दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश और इससे सटे दक्षिण-पूर्व राजस्थान और उत्तर-पूर्व गुजरात पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है।

पिछले 24 घंटों के दौरान, सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में मध्यम से भारी बारिश के साथ कुछ स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुई।

कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल के कुछ हिस्सों, गुजरात क्षेत्र, दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। उत्तरी पंजाब, उत्तर पूर्वी मध्य प्रदेश, सिक्किम, उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और पूर्वी असम में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश हुई।

पूर्वोत्तर भारत, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश हुई। शेष राजस्थान, उत्तराखंड, बिहार, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, आंतरिक कर्नाटक और लक्षद्वीप और तमिलनाडु में 1 या 2 स्थानों पर हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान सौराष्ट्र और कच्छ तथा दक्षिणी राजस्थान में मध्यम से भारी बारिश संभव है। पश्चिमी और दक्षिणी मध्य प्रदेश, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल, मराठवाड़ा, मध्य महाराष्ट्र और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश संभव है। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वोत्तर भारत, सिक्किम और ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश संभव है। पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पूर्वोत्तर राजस्थान, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, लक्षद्वीप, तमिलनाडु और दिल्ली में 1 या 2 स्थानों पर हल्की बारिश संभव है।